हरिशंकर परसाई जीवन परिचय हिंदी में | Harishankar Parsai Biography In Hindi

हरिशंकर परसाई जीवन परिचय हिंदी में | Harishankar Parsai Biography In Hindi :

जीवन परिचय परिचय : 

हरिशंकर परसाई हिंदी के प्रसिद्ध लेखक और व्यंग्यकार थे इनका जन्म “22 अगस्त 1924” को इटारसी के निकट जमानी नामक स्थान पर हुआ था |
इन्होने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा मध्य प्रदेश में हुई थी इसके बाद नागपुर के एक विश्वविधालय से इन्होने हिंदी सब्जेक्ट से M.A पास की थी |

इसके बाद कुछ दिनों तक इन्होने पढ़ाने अथवा अध्यापन का कार्य भी किया |
इसके बाद जब इन्हे लगा की नौकरी साहित्य -सर्जन में रूकावट डाल रही तो इन्होने नौकरी को छोड़ दी और साहित्य सर्जन में लग गए |

जबलपुर से इन्होने ‘वसुधा’ नामक साहित्यिक मासिक पत्रिका का सम्पादन किया और उसका प्रकाशन आरंभ किया |

जब इन्हे आर्थिक घाटा महसूस हुआ तो इन्होने ये भी बंद कर दिया |
इसके बाद इनकी रचनाये साप्ताहिक हिंदुस्तान दरमयुग आदि पत्रिकाओं में नियमित रूप से प्रकाशित होती रही |

मृत्यु :

हिंदी के प्रसिद्ध लेखक हरिशंकर परसाई जी ने “10 अगस्त 1995” को जबलपुर में अपनी अंतिम साँस ली थी |

साहित्यिक योगदान  : 

हरिशंकर परसाई जी हिंदी व्यंग के आधार स्तंभ थे इन्होने हिंदी व्यंग को नई दिशा दी और अपनी रचनाओं में व्यक्ति और समाज की विंसगतियों पर से पर्दा हटाया है |
विकलांग श्रद्धा का डोर ग्रंथ पर इन्हे साहित्य अकादमी पृरस्कर प्राप्त हुआ इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश हिंदी साहित्य संस्थान तथा मध्य प्रदेश कला परिषद द्वारा भी इन्हे सम्मानित किया गया |

रचनाये : 

कहानी – हसंते है ,रोते है ,जैसे उनके दिन फिरे
उपन्यास – रानी नागफनी की कहानी ,तट की खोज
निबंध – तब की बात और थी ,भूत के पाव पीछे ,बईमानी की परत ,पगडंडियों का जमाना ,सदाचार का तावीज ,शिकायत मुझे भी है ,और अंत में ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *