भीष्म साहनी जीवन परिचय हिंदी में | BHISHAM SAHNI BIOGRAPHY IN HINDI

भीष्म साहनी जीवन परिचय

 

नाम – भीष्म साहनी

जन्म – 8 अगस्त सन 1915

स्थान – रावलपिण्डी (पाकिस्तान)

  •  बाल्यावस्था से उनके जीवन पर भारतीय सुधार आन्दोलन पुनर्जागरण काल के घटनाचक्रों का प्रभाव रहा ।
  • प्रारम्भिक स्कूली शिक्षा रावलपिण्डी में ग्रहण करने के पश्चात् उन्होंने उच्च शिक्षा लाहौर में ग्रहण की ।
  • इन्होने अध्यापन, पत्रकारिता और ‘इप्टा’ नाट्‌य मण्डली में अभिनय के क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया ।
  • भीष्म साहनी की कहानियों का फलक अन्य समकालीन कहानीकारों कमलेश्वर, मोहन राकेश, अमरकान्त, राही मासूम रजा जैसा व्यापक तो नहीं है लेकिन उनकी कहानियां गहरी संवेदना के साथ अपनी सादगी तथा वैचारिक चेतना के तेवर के साथ पात्रों को सामने लाती हैं ।
  • उन्होंने उर्दू संस्कृत, अंग्रेजी भाषा का प्रयोग आवश्यकतानुसार किया है, जिसमें पंजाबी तथा आंचलिक भाषा के देशज शब्द भी मिलकर प्रभाव उत्पन्न करते हैं ।
  • वे रचनाधर्मिता के प्रति सजग प्रतिबद्धता के कवि रहे हैं |
  • उनका निधन 11 जुलाई, 2003 को दिल्ली में हुआ ।

 

भीष्म साहनी प्रमुख रचनाएँ:-

  • उपन्यास – झरोखे, तमस, बसन्ती, मायादास की माडी, कुन्तो, नीलू निलिमा निलोफर
  • कहानी संग्रह – मेरी प्रिय कहानियां, भाग्यरेखा, वांगचू, निशाचर
  • नाटक – हनूश (१९७7, माधवी (१९८४), कबीरा खड़ा बजार में (१९८५), मुआवज़े (१९९३)
  • आत्मकथा – बलराज माय ब्रदर
  • बालकथा- गुलेल का खेल

 नाटकों में ”माधवी”, ”हानुक”, ”कबीर खड़ा बाजार में”, प्रमुख हैं ।

 साहनी को बहुत से अवार्ड्स से नवाजा गया है:-

  •  1975 में उत्तरप्रदेश सरकार ने ‘तामस’ के लिए उन्हें सम्मानित किया था।
  • 1975 में एफ्रो-एशियन लेखको के एसोसिएशन द्वारा लोटस अवार्ड दिया गया।
  • 1983 में सोवियत लैंड नेहरु अवार्ड दिया गया।
  •  1998 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।
  • शलाका सम्मान  नयी दिल्ली 1999
  • मैथिलीशरण गुप्त सम्मान मध्य प्रदेश, 2000-01
  • संगीत नाटक अकादमी अवार्ड 2001
  • सर्वोत्तम हिंदी उपन्यासकार के लिए सर सैयद नेशनल अवार्ड, 2002
  • 2002 में भारत के सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कार साहित्य अकादमी फ़ेलोशिप से सम्मानित किया गया।
  • 2004 में   रशिया में उन्हें कॉलर ऑफ़ नेशन अवार्ड से सम्मानित किया गया।
  • 31 मई 2017 को भारतीय डाक ने साहनी के सम्मान में उनके नाम का एक पोस्टेज स्टेम्प भी जारी किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *